सजीव किसे कहते हैं?

जीव विज्ञान में, सजीव उन चीजों को कहते हैं जिनमें कुछ विशिष्ट गुण होते हैं जो उन्हें निर्जीव वस्तुओं से अलग करते हैं। ये गुण निम्नलिखित हैं:

  • जीवन प्रक्रियाओं को करने की क्षमता: इसमें पोषण, श्वसन, उत्सर्जन, परिवहन, संवेदनशीलता, वृद्धि और प्रजनन जैसी प्रक्रियाएं शामिल हैं।
  • विकास और वृद्धि: सजीव जन्म लेते हैं, बढ़ते हैं और विकसित होते हैं।
  • प्रजनन की क्षमता: सजीव अपने जैसे नए जीवों को जन्म दे सकते हैं।
  • पर्यावरण के अनुकूलन: सजीव अपने परिवेश में परिवर्तन के अनुसार खुद को ढालने में सक्षम होते हैं।
  • निश्चित संरचना: सभी सजीवों में कोशिकाओं से बनी एक निश्चित संरचना होती है।

इन सभी गुणों के आधार पर, सजीवों को निर्जीव वस्तुओं से अलग कर सकते हैं।

सजीव और निर्जीव में अंतर

विशेषतासजीवनिर्जीव
जीवनजीवन हैजीवन नहीं है
वृद्धिवृद्धि करते हैंवृद्धि नहीं करते हैं
विकासविकसित होते हैंविकसित नहीं होते हैं
प्रजननप्रजनन करते हैंप्रजनन नहीं करते हैं
गतिगति करते हैंगति नहीं करते हैं
श्वसनश्वसन करते हैंश्वसन नहीं करते हैं
अवशोषणअवशोषण करते हैंअवशोषण नहीं करते हैं
पोषक पदार्थों का उपयोगपोषक पदार्थों का उपयोग करते हैंपोषक पदार्थों का उपयोग नहीं करते हैं
उत्सर्जनउत्सर्जन करते हैंउत्सर्जन नहीं करते हैं
मृत्युमर जाते हैंमरते नहीं हैं
संवेदनासंवेदनशील होते हैंसंवेदनशील नहीं होते हैं
अनुकूलनअनुकूलित होते हैंअनुकूलित नहीं होते हैं
क्रमविकासक्रमविकास से गुजरते हैंक्रमविकास से नहीं गुजरते हैं

सजीव और निर्जीव के उदाहरण

सजीव: मनुष्य, पशु, पेड़-पौधे, बैक्टीरिया, वायरस निर्जीव: पत्थर, मिट्टी, पानी, आग, हवा, प्रकाश

एककोशिक जीव

एककोशिक जीव वह जीव होते हैं जिनमें केवल एक ही कोशिका होती है। इनके विपरीत बहुकोशिकीय जीवों में एक से अधिक कोशिकाएँ होती हैं।

एककोशिक जीवों को दो मुख्य समूहों में विभाजित किया जा सकता है:

  • प्रोकार्योटिक जीव – इन जीवों में कोशिका झिल्ली के अंदर एक केंद्रक नहीं होता है। जीवाणु प्रोकार्योटिक जीवों के उदाहरण हैं।
  • यूकेरियोटिक जीव – इन जीवों में कोशिका झिल्ली के अंदर एक केंद्रक होता है। अमीबा, डायटम, और शैवाल यूकेरियोटिक जीवों के उदाहरण हैं।

एककोशिक जीवों का आकार बहुत छोटा होता है। अधिकांश एककोशिक जीवों को देखने के लिए सूक्ष्मदर्शी की आवश्यकता होती है। हालांकि, लगभग एक दर्जन एककोशिक जीव ऐसे भी हैं जिन्हें सीधा आँख से देखा जा सकता है।

एककोशिक जीवों के शरीर में सभी आवश्यक अंग होते हैं जो उन्हें जीवित रहने और प्रजनन करने में सक्षम बनाते हैं। इन अंगों में शामिल हैं:

  • कोशिका झिल्ली – यह झिल्ली कोशिका को बाहरी वातावरण से अलग करती है।
  • कोशिकाद्रव्य – यह कोशिका का तरल पदार्थ है जिसमें सभी कोशिकांग होते हैं।
  • कोशिकांग – ये छोटे अंग कोशिका के विभिन्न कार्यों को करते हैं।

एककोशिक जीवों के जीवन चक्र में दो मुख्य चरण होते हैं:

  • वृद्धि और विकास – इस चरण में कोशिका बढ़ती है और विकसित होती है।
  • जनन – इस चरण में कोशिका विभाजित होकर दो नई कोशिकाओं का निर्माण करती है।

एककोशिक जीवों का जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। वे पारिस्थितिक तंत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उदाहरण के लिए, जीवाणु मिट्टी में पाए जाते हैं और पौधों के लिए पोषक तत्वों को उपलब्ध कराने में मदद करते हैं। डायटम समुद्र में पाए जाते हैं और प्रकाश संश्लेषण द्वारा ऑक्सीजन का उत्पादन करते हैं।

एककोशिक जीवों का उपयोग कई प्रकार के औद्योगिक उत्पादों के निर्माण में भी किया जाता है। उदाहरण के लिए, जीवाणु का उपयोग दवाओं, खाद्य पदार्थों, और अन्य उत्पादों के उत्पादन में किया जाता है।

अमीबा, पैरामीशियम, क्लैमिडोमोनास, बैक्टीरिया आदि एककोशिक जीव के उदाहरण है।

अमीबा

जगत प्रोटिस्टा
संघ प्रोटोजोआ
गण लोबोसा
वंश अमीबा

ये एक कोशिकीय जीव है। अमीबा एककोशीय जंतु होने के कारण इसमें उत्सर्जी अंग नहीं पाए जाते हैं। अपशिष्ट पदार्थों का निष्कासन विसरण द्वारा होता है। अमीबा के शरीर में संकुचनशील रसधानियां पाई जाती है। जिनके द्वारा अपशिष्ट पदार्थों को शरीर से बाहर त्याग दिया जाता है।

अमीबा के सामान्य लक्षण

  • यह अनियमित तथा रंगहीन जंतु है।
  • निरंतर अपना आकार बदलता है।
  • प्रचलन के लिए कूट पाद मिलते है।
  • जंतु समभोजी पोषण मिलता है।

यूग्लीना

यूग्लीना एककोशिकीय जीव है। यूग्लीना संघ प्रोटोजोआ का प्राणी है। उस जल में पाया जाता है जिसमें शैवालों की मात्रा अधिक पायी जाती है। यूग्लीना हरे रंग का जीव होता है क्योंकि इसमें हरितलवक पाया जाता है। यह हरितलवक की उपस्थिति में ही अपना भोजन बनाता है। इस प्रकार पादप व जन्तु दोनों की तरह व्यवहार दर्शाता है। यह अपने भोजन निर्माण में ऑक्सीजन, काबर्न डाइऑक्साइड तथा क्लोराप्लास्ट का उपयोग करता है तथा ग्लूकोज़ तथा जल का निर्माण करता है। यह अपने भोजन का उत्सर्जन अपनी कोशिका भित्ति के द्वारा ही करता है। यूग्लीना द्विखण्डन , बहुखण्डन और पुटिभवन द्वारा अलैंगिक जनन करता है।

बहुकोशिक जीव

कवक, पादप, जन्तु आदि बहुकोशिक जीव के उदाहरण है।

बहुकोशिक जीव वह जीव होते हैं जिनमें एक से अधिक कोशिकाएँ होती हैं। ये कोशिकाएँ एक साथ काम करके एक जटिल जीव का निर्माण करती हैं।

बहुकोशिक जीवों को दो मुख्य समूहों में विभाजित किया जा सकता है:

  • प्राणी – ये जीव जानवर होते हैं।
  • पादप – ये जीव पौधे होते हैं।

प्राणियों में, कोशिकाएँ विभिन्न प्रकार के ऊतकों में संगठित होती हैं। ऊतक एक ही प्रकार के कार्य करते हैं। उदाहरण के लिए, मांसपेशी ऊतक शरीर को गति प्रदान करते हैं, जबकि तंत्रिका ऊतक संवेदनाओं और संकेतों को प्रसारित करते हैं।

पादपों में, कोशिकाएँ विभिन्न प्रकार के अंगों में संगठित होती हैं। अंग एक ही कार्य करते हैं। उदाहरण के लिए, जड़ें पौधे को मिट्टी से पानी और पोषक तत्व प्राप्त करने में मदद करती हैं, जबकि पत्तियाँ प्रकाश संश्लेषण करती हैं।

बहुकोशिक जीवों के शरीर में कई अंग होते हैं जो उन्हें जीवित रहने और प्रजनन करने में सक्षम बनाते हैं। इन अंगों में शामिल हैं:

  • तंत्रिका तंत्र – यह तंत्र शरीर को नियंत्रित करता है।
  • प्रजनन प्रणाली – यह तंत्र संतति पैदा करने में मदद करता है।
  • जंतुओं में, पाचन तंत्र – यह तंत्र भोजन को पचाने में मदद करता है।
  • पादपों में, जड़ें, तना, और पत्तियाँ – ये अंग पौधे को पानी, पोषक तत्व, और प्रकाश प्राप्त करने में मदद करते हैं।

बहुकोशिक जीवों का जीवन चक्र में कई चरण होते हैं:

  • जन्म – इस चरण में जीव का जन्म होता है।
  • वृद्धि और विकास – इस चरण में जीव बढ़ता है और विकसित होता है।
  • यौवन – इस चरण में जीव प्रजनन करने में सक्षम होता है।
  • प्रजनन – इस चरण में जीव संतति पैदा करता है।
  • मृत्यु – इस चरण में जीव मर जाता है।

बहुकोशिक जीवों का जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। वे पारिस्थितिक तंत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उदाहरण के लिए, पेड़ प्रकाश संश्लेषण द्वारा ऑक्सीजन का उत्पादन करते हैं और मिट्टी को स्थिर करने में मदद करते हैं। जानवर पौधों और अन्य जानवरों को खाते हैं, जिससे खाद्य श्रृंखला बनती है।

बहुकोशिक जीवों का उपयोग कई प्रकार के औद्योगिक उत्पादों के निर्माण में भी किया जाता है। उदाहरण के लिए, जानवरों का उपयोग मांस, दूध, और अन्य उत्पादों के उत्पादन में किया जाता है। पौधों का उपयोग खाद्य पदार्थों, कपड़ों, और अन्य उत्पादों के उत्पादन में किया जाता है।

बहुकोशिक जीवों के कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं:

  • प्राणी – मनुष्य, जानवर, कीड़े, और अन्य जीव।
  • पादप – पेड़, फूल, घास, और अन्य पौधे।

बहुकोशिक जीवों के जीवन के कुछ महत्वपूर्ण पहलू निम्नलिखित हैं:

  • कोशिका विभाजन – बहुकोशिक जीवों में, कोशिकाएँ लगातार विभाजित होती रहती हैं। यह वृद्धि, विकास, और मरम्मत के लिए आवश्यक है।
  • ऊतक संगठन – बहुकोशिक जीवों में, कोशिकाएँ विभिन्न प्रकार के ऊतकों में संगठित होती हैं। ऊतक एक ही प्रकार के कार्य करते हैं।
  • अंग संगठन – बहुकोशिक जीवों में, ऊतक विभिन्न प्रकार के अंगों में संगठित होते हैं। अंग एक ही कार्य करते हैं।
  • प्रजनन – बहुकोशिक जीव संतति पैदा करने में सक्षम होते हैं। प्रजनन के लिए, कोशिकाएँ मिलकर एक नई कोशिका का निर्माण करती हैं।