मात्रक (Unit) मात्रक क्या है?

किसी भौतिक राशि के मापन के लिये एक संख्या तथा मानक मात्रक की आवश्यकता होती है।

मात्रकों के प्रकार

भौतिक राशियों के मात्रक दो प्रकार के होते हैं, मूल मात्रक एवं व्युत्पन्न मात्रक।

मूल मात्रक

मूल राशियों जैसे द्रव्यमान, लंबाई, समय, ताप, विद्युत धारा, पदार्थ की मात्रा तथा ज्योति तीव्रता को व्यक्त करने के लिये प्रयुक्त मात्रकों को मूल मात्रक कहते है।

व्युत्पन्न मात्रक

मूल राशियों से व्युत्पन्न राशियों जैसे वेग, त्वरण इत्यादि को व्यक्त करने के लिये प्रयुक्त मात्रकों को व्युत्पन्न मात्रक कहते है।

मात्रक प्रणाली

मूल राशियों और व्युत्पन्न राशियों को व्यक्त करने के लिये जिन मात्रकों का उपयोग किया जाता है, उन्हें मात्रक प्रणाली कहते है।
भौतिक राशियों के मापन में प्रयुक्त तीन मुख्य रुढ़ प्रणालियां निम्नलिखित है-

MKS प्रणाली (MKS System )

इसे मीटर-किलोग्राम-सेकेण्ड पद्धति भी कहते है। इस प्रणाली या पद्धति में लंबाई, द्रव्यमान एवं समय के मात्रक क्रमशः मीटर, किलोग्राम एवं सेकंड प्रयुक्त किये जाते है।

सी जी एस पद्धति या C. G. S. प्रणाली

इस प्रणाली या पद्धति में लंबाई, द्रव्यमान एवं समय के मात्रक क्रमशः सेन्टीमीटर, ग्राम एवं सेकंड प्रयुक्त किये जाते है।

F.P.S. प्रणाली

इस प्रणाली या पद्धति में लंबाई, द्रव्यमान एवं समय के मात्रक क्रमशः फुट, पाउण्ड एवं सेकंड प्रयुक्त किये जाते है।

मात्रकों की अंतर्राष्ट्रीय प्रणाली

मात्रकों की अंतर्राष्ट्रीय प्रणाली में सात मूल मात्रक तथा दो पूरक मात्रक होते है।

मात्रकों की अंतर्राष्ट्रीय प्रणाली में सात मूल मात्रक निम्न है

मूल मात्रक
भौतिक राशि SI मात्रक प्रतीक
लंबाई मीटर m
द्रव्यमान किलोग्राम kg
समय सेकंड s
विद्युत धारा ऐम्पियर A
उष्मागतिक ताप केल्विन K
पदार्थ की मात्रा मोल mol
ज्योति तीव्रता कैंडेला cd

मात्रकों की अंतर्राष्ट्रीय प्रणाली में दो पूरक मात्रक होते है। जो कि निम्न है

पुरक मात्रक
भौतिक राशि SI मात्रक प्रतीक
समतलीय कोण रेडियन rad
घन कोण स्टेरेडियन sr