दिशासूचक यंत्र (Compass) क्या है?

दिशासूचक यंत्र (कंपास) कॉंच के ढक्कन वाली एक छोटी डिब्बी होती है। इसमें एक चुम्बकीय सुई तीखी नोक पर टिकी होती है जिस पर सुई स्वतंत्रतापूर्वक घूमती है। इस सुई का एक सिरा उत्तर व दूसरा सिरा दक्षिण ध्रुव होता है। कम्पास में एक डायल भी होता है जिस पर दिशाएँ अंकित होती हैं। जहाँ हमें दिशा का पता लगाना होता है वहाँ कम्पास को रख दिया जाता हैं। कम्पास की सुई जब विरामावस्था में आती है तो उत्तर-दक्षिण दिशा निर्देशित करती है, कम्पास को तब तक घुमाते हैं जब तक कि डायल पर अंकित उत्तर-दक्षिण दिशा के चिह्न, सुई के दोनों सिरों पर न आ जाए।