जीव जगत का वर्गीकरण किस प्रकार किया जाता है?

यह जीवों को उनके समान लक्षणों के आधार पर समूहों में विभाजित करता है। जीवों के वर्गीकरण से हमें जीवों की विविधता को समझने और उनके बीच संबंधों को समझने में मदद मिलती है।

जीव जगत का वर्गीकरण कई अलग-अलग तरीकों से किया जा सकता है। सबसे आम वर्गीकरण प्रणाली को दो, तीन, या पांच जगत वर्गीकरण के रूप में जाना जाता है।

दो जगत वर्गीकरण

दो जगत वर्गीकरण को सबसे पहले कैरोलस लीनियस द्वारा 1735 में प्रस्तावित किया गया था। इस वर्गीकरण प्रणाली में, जीवों को दो जगत में विभाजित किया जाता है:

पादप जगत (Plant Kingdom)

इसमें सभी पादप शामिल हैं, जिनमें शैवाल, कवक, और फूलों वाले पौधे शामिल हैं।

प्राणी जगत (Animal Kingdom)

इसमें सभी जानवर शामिल हैं, जिनमें प्रोटोजोआ, स्पंज, और स्तनधारी शामिल हैं।

तीन जगत वर्गीकरण

तीन जगत वर्गीकरण को पहली बार 1938 में रॉबर्ट हचिन्सन द्वारा प्रस्तावित किया गया था। इस वर्गीकरण प्रणाली में, जीवों को तीन जगत में विभाजित किया जाता है:

मोनेरा जगत (Monera Kingdom)

इसमें सभी प्रोकैरियोटिक जीव शामिल हैं, जिनमें बैक्टीरिया और आर्किया शामिल हैं।

प्रॉटिस्टा जगत (Protista Kingdom)

इसमें सभी एककोशिकीय यूकैरियोटिक जीव शामिल हैं, जिनमें प्रोटोजोआ, डायटम्स, और शैवाल शामिल हैं।

यूकैरिया जगत (Eukarya Kingdom)

इसमें सभी बहुकोशिकीय यूकैरियोटिक जीव शामिल हैं, जिनमें पादप, जानवर, और कवक शामिल हैं।

पांच जगत वर्गीकरण

पांच जगत वर्गीकरण को पहली बार 1969 में रॉबर्ट व्हिटेकर द्वारा प्रस्तावित किया गया था। इस वर्गीकरण प्रणाली में, जीवों को पांच जगत में विभाजित किया जाता है:

मोनेरा जगत (Monera Kingdom)

इसमें सभी प्रोकैरियोटिक जीव शामिल हैं, जिनमें बैक्टीरिया और आर्किया शामिल हैं।

प्रॉटिस्टा जगत (Protista Kingdom)

इसमें सभी एककोशिकीय यूकैरियोटिक जीव शामिल हैं, जिनमें प्रोटोजोआ, डायटम्स, और शैवाल शामिल हैं।

फंजाई जगत (Fungi Kingdom)

इसमें सभी कवक शामिल हैं, जिनमें यीस्ट, मशरूम, और फफूंद शामिल हैं।

प्लांटी जगत (Plant Kingdom)

इसमें सभी पादप शामिल हैं, जिनमें शैवाल, कवक, और फूलों वाले पौधे शामिल हैं।

एनिमेलिया जगत (Animal Kingdom)

इसमें सभी जानवर शामिल हैं, जिनमें प्रोटोजोआ, स्पंज, और स्तनधारी शामिल हैं।